Deprecated: Methods with the same name as their class will not be constructors in a future version of PHP; astropress_widget has a deprecated constructor in /var/www/vhosts/xtroguru.com/httpdocs/wp-content/plugins/astropress-by-ask-oracle/AstroPress.php on line 39
सुनें, BJP विधायक की कॉल रिकॉर्डिंग- कैसे पीड़िता के चाचा को धमका कर केस वापस लेने को बोल रहा था - XtroGuru
Uncategorized 

सुनें, BJP विधायक की कॉल रिकॉर्डिंग- कैसे पीड़िता के चाचा को धमका कर केस वापस लेने को बोल रहा था

उन्नाव रेप केस में अब बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर का एक ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस ऑडियो में पीड़िता के चाचा और विधायक के बीच हुई बातचीत है। पुलिस हिरासत में हुई मौत से पहले का ऑडियो है जब मार पीट हुई थी। उसी वक़्त पीड़िता के चाचा ने विधायक से बातचीत किया तो उसने मामला सुलझाने को कहा।

वायरल हो रहे ऑडियो में रिकॉर्ड हुई बातचीत के अंश

पीड़िता के चाचा: गांव में यह क्या करवा रहे थे नेता जी, यह तो ठीक का नहीं है, मरवाना, पिटवाना बच्चों को, पप्पू को, यह सब अच्छी बात नहीं है।

कुलदीप सिंह सेंगर: हमें तुम धमकी दे रहे हो, बेटा।

पीड़िता के चाचा: दे नहीं रहे हैं, आपकी सेवा की है इसलिए आपको बता रहा हूं।

कुलदीप सिंह सेंगर: हमारी सेवा की है तो हमारी सेवा में रहना चाहिए, हमारे खिलाफ ऐप्लीकेशन क्यों देते हो

पीड़िता के चाचा: मैं आपके खिलाफ कुछ नहीं कर रहा था।

कुलदीप सिंह सेंगर: हमारे खिलाफ पर्चा क्यों छपवाते हो

पीड़िता के चाचा: मैंने नहीं छपवाया, यह आप पता करो लेकिन हमने नहीं छपवाया।

कुलदीप सिंह सेंगर: तुम बताओगे हम किससे पता करें।

पीड़िता के चाचा: मेरे वॉट्सऐप पर आया और मैंने इसे फॉरवर्ड किया बस इतना गुनहगार हूं, एक औलाद है मेरे बताइए कहां खड़े होना है।

……………….

सुनें – पूरा ऑडियो –

वही इससे पहले एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें पीड़िता के पिता की मौत से पहले उसका जबरन अंगूठा लगवाते दिखा गया जा रहा है।  इस वायरल होते वीडियो में जिसमें ये साफ़ दिखाई दे रहा है की कैसे मरने की हालत में अस्पताल के कर्मचारी पीड़ित शख्स से सादे पन्नो पर पीड़ित शख्स का अंगूठे का निशान लगवाते नजर आ रहे है।

बता दें, पूरे मामले में आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल सिंह को गिरफ्तार किया गया है। इतना ही नहीं अतुल सिंह के खिलाफ गैर इरादतन हत्या की धारा को भी एफआईआर में जोड़ा गया है। वहीं पूरे मामले में सिर्फ 6 पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है।

Related posts

Leave a Comment