Fake Funny News 

वीएचपी के नेता ने अपना ही घर फूँका, मुसलमान मिस्त्री ने बनाया था घर

लखनऊ. जो लोग अपने उसूलों के पक्के होते हैं, वे उनके लिए अपनी जान की बाज़ी भी लगा देते हैं। लखनऊ के रहने वाले वीएचपी कार्यकर्ता अतिरेक मिश्रा ने भी अपने उसूलों के लिए कल रात अपने घर को आग लगा दी और इतिहास में अमर हो गये।

अपना घर फूँकते अतिरेक मिश्रा जी

“मैं इतने दिन से एक मुसलमान के बनाये घर में रह रहा था! लानत है मेरी ज़िंदगी पे!” -यह कहते हुए वो रसोई में गये और केरोसीन पी लिया। घरवाले दौड़कर उन्हें अस्पताल ले गये, जहाँ डॉक्टरों ने किसी तरह उन्हें बचा लिया।दरअसल, अतिरेक जी को मुसलमानों की बनाई हुई कोई भी चीज़ पसंद नहीं हैं। इसलिए कल रात जब बातों-बातों में उनके पिताजी ने उन्हें बताया कि हमारे इस घर को ‘हनीफ़’ नाम के एक राजमिस्त्री ने बनाया था, तो उनकी आँखों से ख़ून बरसने लगा।

लेकिन वहाँ से वो डॉक्टरों और घरवालों की नज़रों से बचते हुए खिसक लिये और घर पहुँचे और अपने ही घर को आग लगा दी। तब कहीं जाकर उनके बेचैन मन को तसल्ली मिली।

आपको बता दें कि दो दिन पहले ही मिश्रा जी ने अपनी कार भी फूँक दी थी। जैसे ही उन्हें पता चला कि उनकी कार मारूति के जिस मानेसर प्लांट में बनी है, उसमें कुछ मुसलमान भी काम करते हैं, उन्होंने कार के पेट्रोल टैंक का ढक्कन खोला और उसमें जलती हुई तीली डाल दी।

मिश्रा जी के कार और घर बेशक फुँक गये हों लेकिन हिंदूवादी संगठनों की नज़रों में वो हीरो बन गये हैं। लखनऊ समेत कई शहरों में लोग उनकी जय-जयकार कर रहे हैं। अंतिम समाचार लिखे जाते समय मिश्रा जी गर्व से अपना सीना फुलाये किराये का घर ढूँढ रहे थे और उनके बीवी-बच्चे किसी रिश्तेदार के घर में टिके हुए थे। ऐसे होते हैं उसूलों के रक्षक!

Related posts

Leave a Comment