India 

रोज़ा तोड़कर आरिफ ने बचा ली अजय की जिंदगी, जानिये क्या हुआ था …

आरिफ खान ने रोज़ा तोड़कर एक युवक की जान ही नही बचाई बल्कि यह भी साबित कर दिया कि इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नही साथ ही मजहब के नाम पर इंसान और इंसानियत को बांटने वालों को भी सबक दिया. मैक्स अस्पताल में भर्ती अजय विजयवाड़ा की हालत बेहद गंभीर और आईसीयू में है लीवर में संक्रमण से ग्रसित अजय की प्लेटलेट्स तेजी से गिर रही थी.

शनिवार सुबह से ही अजय की प्लेटलेट्स 5000 से भी कम रह गई थी चिकित्सकों ने पिता शिवानंद बिजल्वाण से कहा कि अगर ए पॉजिटिव ब्लड नहीं मिला तो जान का खतरा हो सकता है काफी कोशिश करने के बाद भी डोनर नहीं मिला इसके बाद शिवानंद के परिचितों ने इस संबंध में सोशल मीडिया पर पोस्ट कर मदद मांगी जब सहस्रधारा रोड नाल पानी चौक निवासी नेशनल एसोसिएशन फॉर पेरेंट्स एंड स्टूडेंट्स लाइफ के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरिफ खान को WhatsApp ग्रुप के माध्यम से सूचना मिली.



सूचना पाकर आरिफ खान ने अजय के पिता को फोन किया कहा कि वह रोज ऐसे हैं अगर चिकित्सकों को कोई दिक्कत नहीं है तो वह खून देने के लिए तैयार हैं चिकित्सकों ने कहां कि खून देने से पहले कुछ खाना पड़ेगा कुछ यानी रोजा तोड़ना पड़ेगा इसके बाद आरिफ रोजे की परवाह किए बिना अस्पताल पहुंचे और ब्लड देकर अजय की जान बचा ली.

आरिफ खान ने बताया कि ‘अगर मेरे रोजा तोड़ने से किसी की जान बच सकती है तो मैं पहले मानवधर्म को ही निभाऊंगा। रोजे तो बाद में भी रखे जा सकता है, लेकिन जिंदगी की कोई कीमत नहीं’। उनका कहना है कि ‘रमजान में जरूरतमंदों की मदद करने का बड़ा महत्व है। मेरा मानना है कि अगर हम भूखे रहकर रोजा रखते हैं और जरूरतमंद की मदद नहीं करते तो अल्लाह कभी खुश नहीं होंगे.

मेरे लिए तो यह सौभाग्य की बात है कि मैं किसी के काम आ सका. कहते हैं किसी की जान बचाना सबसे बड़ा धर्म है। जाति और धर्म से उपर उठकर किसी के जीवन की रक्षा करने से बड़ कुछ नहीं.

Related posts

Leave a Comment

Latest Bollywood News and Celebrity Gossips