Deprecated: Methods with the same name as their class will not be constructors in a future version of PHP; astropress_widget has a deprecated constructor in /var/www/vhosts/xtroguru.com/httpdocs/wp-content/plugins/astropress-by-ask-oracle/AstroPress.php on line 39
पैगंबर मोहम्मद साहब के समय में बनी थी भारत की ये पहली मस्जिद,कहा जाता है कि अल्लाह के नबी - XtroGuru
India 

पैगंबर मोहम्मद साहब के समय में बनी थी भारत की ये पहली मस्जिद,कहा जाता है कि अल्लाह के नबी

कहा जाता है कि हिंदुस्तान में सबसे पहली मस्जिद केरला के त्रिशुर जिले बनी है.उसके बारे में जानकार बताते हैं कि अल्लाह के नबी के जमाने में ही लोग तिजारत के लिए भारत आते थे. और उनके आने का जरिया समुंदरी रास्ता होता था वह समुन्द्र में जहाज़ से हिंदुस्तान आते थे.और यहाँ पर तिजारत करते थे.

जब यह भारत आते थे. तो यहाँ के रंग में रंग जाते थे. और अक्सर लोग यहीं पर अपना ठिकाना भी बना लेते थे. क्योंकि भारत देश ही ऐसा है. जहाँ सभी धर्मों के लोग मिलजुलकर रहते हैं.

अरब के ताजिरों में से कुछ लोग तिजारत के लिए अल्लाह के रसूल हजरत मोहम्मद मुस्तफा सल्ल्लाहू अलैहि वसल्लम के जमाने में भी केरला में आये थे. और उन्होंने वहां पर भारत के सबसे पहली मस्जिद बनाई थी.

इस मस्जिद के बनाने के बारे में कई वजह बताये जाते हैं.एक वजह तो यह है कि अरब के ताजिर जब यहाँ आते थे तो कई कई महीने यहाँ पर रहते थे. तो अपने नमाज़ पढ़ने के लिए मस्जिद बना ली थी.

वहीँ इस मस्जिद के बनाने के पीछे एक वजह यह बताई जाती है कि जब अल्लाह के रसूल सल्ल्लाहू अलैहि वसल्लम ने चाँद के दो टुकड़े किये थे तो केरला के कुटुडडललूर के राजा ने चाँद के दो टुकड़े होते देखा था. और वह उसी वक़्त अरब के लिए रवाना हो गए थे.

वहां जाकर उन्होंने इस्लाम कुबूल कर लिया था. और जब वहां से वापस आये तो आप के साथ हजरत मालिक बिन दीनार रज़ी अल्लाहु ताला अन्हु भी साथ में आये. रास्ते में राजा का इंतिकाल हो गया. लेकिन जब हजरत मालिक बिन दीनार रज़ी अल्लाहु ताला अन्हु केरला पहुंचे तो उन्होंने मस्जिद की तामीर करवाई.

हजरत मालिक बिन दीनार रज़ी अल्लाहु ताला अन्हु जब अरब से केरला में आये तो फिर कभी वापस नहीं गए. आप का मजार केरला के कासरगोड जिले में समुन्द्र के किनारे है.

Related posts

Leave a Comment