India 

विधायक खरीदने में हो रही दिक्कत से तिलमिलाए भाजपा मंत्री, बोले- कांग्रेस ने विधायकों से मोबाइल छीन लिया है

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कांफ्रेंस कर बताया है कि ”कर्नाटक कांग्रेस ने अपने विधायको को बंधक बना के रखा है, फोन ले लिए हैं न्यूज़ नही देखने दे रहे है। यहां तक कि परिवार वालों से भी बात नहीं करने दे रहे। ये रिसोर्ट पॉलिटिक्स नही बल्कि डरावनी राजनीति है।”

अब सवाल उठता है कि कांग्रेस ऐसा क्यों कर रही है? कर्नाटक कांग्रेस को आखिर किसका डर है? वो अपने विधायकों को क्यों छिपा रही है। इन सवाल का जवाब कुमारस्वामी के आरोपों में मिलता है।

कर्नाटक चुनाव परिणाम के अगले दिन यानी 16 मई को एच डी कुमारस्वामी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया था कि जेडीएस के प्रत्येक विधायक को 100 करोड़ रुपए ऑफर किए जा रहे है।

कांग्रेस नेताओं ने भी इसी बात का डर था कि उनके विधायकों को खरीद न लिया जाए। इसी डर से कांग्रेस ने अपने सभी विधायकों को रिसोर्ट में रखा है। कांग्रेस और जेडीएस का ये डर सही भी हैं क्योंकि राज्यपाल की कृपा से बी एस येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद की शपथ तो ले ली है लेकिन 15 दिन के अंदर बहुमत कैसे साबिक करेंगे?

कर्नाटके 224 में से 222 विधानसभा सीटों पर चुनाव हुए थे। बीजेपी के सिर्फ 104 विधायक जीते हैं जबकि बहुमत के लिए 112 चाहिए। अब बीजेपी आठ विधायक कहां से लाएगी? जाहिर है विधायक बनाने की कोई मशीन तो है नहीं इसलिए बीजेपी कांग्रेस और जेडीएस के विधायकों को तोड़ने की कोशिश करेगी।

और अगर ऐसी स्थिति में कांग्रेस-जेडीएस अपने विधायकों को छिपाए हुए हैं तो दिक्कत क्या है? सवाल तो ये भी उठता है कि केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर कांग्रेस नेताओं से संम्पर्क करने की कोशिश ही क्यों करे रहे हैं? प्रकाश जावड़ेकर को कांग्रेस नेताओं के फोन बंद होने से क्या दिक्कत है?

Related posts

Leave a Comment