loading...
लोकसभा चुनाव से पहले ओवैसी को मिली बड़ी खुशखबरी, बिना लड़े ही जीत गए, पढ़ें - XtroGuru
Politics 

लोकसभा चुनाव से पहले ओवैसी को मिली बड़ी खुशखबरी, बिना लड़े ही जीत गए, पढ़ें

बीजेपी के राज में देश के मुसलमानों की स्थिति बहुत ही चिंताजनक है। आये दिन देश के कई राज्यों में मुसलमानों के साथ हिंसा की खबर सामने आती रहती है। बीजेपी शासित राज्यों में हिंदूवादी संगठनों से जुड़े कार्यकर्ता पहले से ज्यादा सक्रिय हो गए हैं। गौरक्षा के नाम पर हिंदूवादी भीड़ मुस्लिम लोगों को निशाना बना रहे हैं। जिसके चलते देश के अल्पसंख्यक डर के साये में जी रहे हैं।

1. मोदी राज में डर के साये में जी रहे मुसलमान

वहीँ देश के एक नेता ऐसे हैं जो मुसलमानों के पक्ष में निडर होकर आवाज़ उठाते हैं। ये नेता है हैदराबाद के लोकसभा सांसद और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तिहादुल-मुसलमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी। ओवैसी ने हमेशा बीजेपी राज में मुसलमानों के खिलाफ बढ़ रही हिंसा और उनके साथ हो रहे पक्षपात पर मोदी सरकार के खिलाफ आवाज़ बुलंद की है।

2. मुसलमानों को पाकिस्तानी कहे जाने पर भड़के ओवैसी

देश में मुसलमानों को पाकिस्तानी और देशद्रोही करार दिए जाने के मामले में ओवैसी ने बयान दिया था कि भारत में रहने वाले मुसलमानों को लोग पाकिस्तान के साथ जोड़ते हैं।  उन पर सख्त कार्यवाई की जानी चाहिए। इस मामले में मोदी सरकार का विरोध करते हुए ओवैसी ने कहा था कि देश में ऐसा कानून बनना चाहिए की अगर कोई भारतीय मुसलमानों को पाकिस्तानी कहता है तो उसे कड़ी सजा दी जाए।

3. ओवैसी के पक्ष में आये मुस्लिम धर्मगुरु

एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी के लिए एक बड़ी खुशखबरी सामने आई है। उनके मुसलमानों को पाकिस्तानी कहने के विरोध में अब मुस्लिम धर्मगुरु उनके समर्थन में आ गए हैं। इस मामले में शिया और सुन्नी धर्मगुरु एक साथ उनके समर्थन में आ गए हैं।

4. मोदी सरकार पर भड़के शिया और सुन्नी धर्मगुरु

इस मामले में लखनऊ में ईदगाह के ईमाम और सुन्नी मुस्लिम धर्म गुरू मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने कहा है कि मोदी सरकार के राज में भारत के मुसलमानों को बार-बार पाकिस्तान से जोड़ा जाता है। इससे मुसलमानों की भावनाये आहत होती हैं। इस मामले में मोदी सरकार चुपचाप तमाशा देख रही है। उन्होंने कहा​ कि इसलिए इस मसले में सख्त कानून बनाए जाने की ज़रूरत है। मुसलमानों को पाकिस्तानी कहने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। वहीँ शिया धर्मगुरु अली हुसैन कहते हैं कि ये देश यहाँ पर रहने वाले सभी देशवासियों का है। यहाँ कोई ठेकेदार नहीं है।

निष्कर्ष: गौरतलब है कि बीजेपी सरकार मुसलमानों को वोट हासिल करने तक सीमित रखती है। उनकी भलाई के लिए आजतक मोदी सरकार ने कोई काम नहीं किया है।

Related posts

Leave a Comment

Latest Bollywood News and Celebrity Gossips